गंगा का जल स्तर बढ़ने के बाद लोग गांव को छोड़कर पलायन करने को मजबूर हो गए हैं. लोग गांव से दूर ऊपरी स्थान पर तंबू बनाकर रह रहे हैं. गंगा का जलस्तर गांव में 4 से 5 फीट तक भर गया है. गंगा का रौद्र रूप देखते ही जिला प्रशासन ने बाढ़ चौकिया बना दी हैं. जहां पर ग्रामीणों को निशुल्क स्वास्थ्य की सेवा दी जा रही है.